सोनिया ने अधीर रंजन चौधरी पर जताया विश्वास, सौपी पार्टी की कमान

नई दिल्ली। कांग्रेस पार्टी ने पश्चिम बंगाल में होने वाले आगमी विधानसभा चुनाव चुनाव को देखते हुए पार्टी के वरिष्ठ नेता और लोकसभा में नेता प्रतिपक्ष अधीर रंजन चौधरी को पार्टी ने कमान सौंप दी है। दरसअल कांग्रेस अधीर रंजन चौधरी को पश्चिम बंगाल का नया अध्यक्ष नियुक्ति कर दिया है। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि अधीर रंजन की यह नियुक्ति तत्काल प्रभाव से गई है और कांग्रेस पार्टी की तरफ से इस बात की अधिकारिक घोषणा भी की गई। दरसअल कांग्रेस पार्टी के पश्चिम बंगाल प्रदेश इकाई के प्रदेश अध्यक्ष सोमेन मित्रा का अभी हाल ही में कुछ दिन पहले निधन हो गया था। जिसके बाद से पार्टी प्रदेश में होने विधानसभा चुनाव को देखते हुए लगातार अध्यक्ष के खाली स्थान को भरने के लिए एक जुझारों नेता की तलाश कर रही थी जो अब जाके अधीर रंजन चौधरी पर खत्म हुई। 

इस बात की जानकारी कांग्रेस के संगठन महासचिव के सी वेणुगोपाल की ओर से दी गई। वेणुगोपाल ने एक बयान जारी करते हुए कहा, कि कांग्रेस कार्यकारणी अध्यक्ष सोनिया गांधी ने अधीर रंजन चौधरी को पश्चिम बंगाल प्रदेश कांग्रेस कमेटी का नया अध्यक्ष तत्काल प्रभाव से नियुक्त किया है। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि अधीर रंजन चौधरी फरवरी 2014 से 2 सितंबर 2018 तक पश्चिम बंगाल कांग्रेस टीम की अध्यक्षता कर चुके हैं।आपको बता दें कि कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने अधीर के नाम की घोषणा करने से पहले इन नामों पर भी विचार किया था, ये नाम हैं प्रदीप भट्टाचार्य, नेपाल भट्टाचार्य, अब्दुल मन्नान, पूर्व केंद्रीय मंत्री दीपा, दास मुंशी। 

लेकिन बंगाल विधानसभा कांग्रेस के नेता और पार्टी के वरिष्ठ नेता अब्दुल मन्नान ने पार्टी अध्यक्षा से अध्यक्ष पद के लिए  अधीर रंजन चौधरी का नाम सुझाया था। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि अधीर रंजन चौधरी बंगाल के बहरामपुर से लोकसभा सीट से सांसद है। अधीर रंजन के के लिए अब यह जिम्मेदारी और अधिक महत्वपूर्ण है, क्योंकि पश्चिम बंगाल में अगले साल यानी 2021 के अप्रैल माह में विधानसभा चुनाव होने हैं और ऐसे में कांग्रेस को अपनी प्रतिष्ठा बचाने का भी है। एक मौके के तौर पर देखा जा रहा है।  

Show More

Related Articles